Manoj Publications
Manoj Publications
Burari, New Delhi, Delhi
GST No. 07AAOPG6605P1Z7
TrustSEAL Verified
Call 0804605774372% Response Rate
SEND EMAIL

Kids Practice Book

Prominent & Leading Manufacturer from New Delhi, we offer sampurna hindi lekhan abhyas pustika and hindi sulekh vakya gyan abhyas pustika.

Sampurna Hindi Lekhan Abhyas Pustika

Sampurna Hindi Lekhan Abhyas Pustika
  • Sampurna Hindi Lekhan Abhyas Pustika
Get Best Quote
Approx. Price: Rs 100 / PieceGet Latest Price

Product Details:

Minimum Order Quantity1 Piece
Book NameSampurna Hindi Lekhan Abhyas Pustika
ClassUKG
Suitable ForSchool
LanguageHindi
AuthorManoj Publications
PublisherManoj Publications
ColorFour Colour
Size8.5 x 11 inch
Publishing Year2024
No Of Pages80
Pages80
Country of OriginMade in India

बच्चों के लिए हिन्दी लेखन में विविधता और सरलता होती है। इसमें बच्चों को विभिन्न प्रकार के लेखनात्मक कार्यों का अभ्यास करने का मौका मिलता है और उन्हें भाषा कौशल में सुधार होता है।

"हिन्दी लेखन" एक विशेष क्षेत्र है जिसमें लेखक भाषा का सुंदर और प्रभावी उपयोग करते हुए विभिन्न प्रकार के लेखनात्मक कार्य करते हैं। हिन्दी लेखन कई रूपों में हो सकता है।
Request
Callback
Yes! I am Interested

Hindi Sulekh Vakya Gyan Abhyas Pustika

Hindi Sulekh Vakya Gyan Abhyas Pustika
  • Hindi Sulekh Vakya Gyan Abhyas Pustika
Get Best Quote
Approx. Price: Rs 60 / PieceGet Latest Price

Product Details:

Minimum Order Quantity1 Piece
Book NameHindi Sulekh Vakya Gyan Abhyas Pustika
ClassUKG
Suitable ForSchool
LanguageHindi
PublisherManoj Publications
ColorFour Colour
BrandSawan
Size8.5 x 11 inch
Publishing Year2024
No Of Pages32
Pages32
Country of OriginMade in India

"वाक्यज्ञान" एक शास्त्रीय भाषा शास्त्र (Linguistics) शाखा है, जो भाषा के वाक्य (sentences) के रूप, संरचना, और अर्थ का अध्ययन करती है। इसका मुख्य उद्देश्य भाषा की संरचना और अर्थ को समझना, वर्णन करना और विश्लेषण करना है।

वाक्यज्ञान का अध्ययन भाषा के विभिन्न स्तरों पर होता है, जैसे कि ध्वनि (phonetics), शब्द-रूप (morphology), वाक्य-रूप (syntax), भाषा-अर्थशास्त्र (semantics), और व्याकरण (grammar)।

वाक्यज्ञानी (linguist) वाक्यों के गठन, संरचना, और उनके विभिन्न अंगों की अध्ययन करते हैं ताकि वे भाषा के सिद्धांतिक और व्यावादिक पहलुओं को समझ सकें। यह शाखा भाषा के विकास, अर्थ, और बोलचाल में होने वाली परिवर्तनों का भी अध्ययन करती है।

Request
Callback
Yes! I am Interested
X

Product Videos

GIANT COLOURING POSTER

GIANT COLOURING POSTER

Get Best Quote
2 IN 1 MAP CHART

2 IN 1 MAP CHART

Get Best Quote

Explore More Products

View All Products




Reach Us
Sawan Gupta (Proprietor)
Manoj Publications
No. 761, Main Road, Burari
New Delhi - 110084, Delhi, India
Get Directions


Call Us


Send E-mail